कंप्यूटर का ब्लॉक चित्र | Block diagram of Computer in Hindi

दोस्तो हम देखेंगे कि कंप्यूटर किस प्रकार कार्य करता है क्योंकि जब भी हम कंप्यूटर में इनपुट टाइप द्वारा कुछ टाइप करते है तो हमे वो सीधे कंप्यूटर पर आउटपुट के रूप में दिखाई देता है हम देखेंगे किस प्रकार इनपुट तथा आउटपुट के मध्य में CPU कार्य कार्य करता है । (Block diagram of Computer in Hindi) कंप्यूटर सिस्टम के तीन मुख्य भाग है – (1) इनपुट डिवाइसिस, (2) सेन्ट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (CPU) और (3) आउटपुट डिवाइसिस |

Block diagram of Computer in Hindi

इनपुट डिवाइसिस (Input Devices)

इनपुट डिवाइसिस के द्वारा यूजर अपने निर्देश (Information) कंप्यूटर सी० पी० यू० तक पहुँचाता है जहाँ से इनपुट डाटा प्रोसेस होकर आउटपुट द्वारा प्रदर्शित होता है | अर्थात वे डिवाइसिस जो डाटा, प्रोग्राम एवं सिग्नल्स को ट्रांसफर करती है कंप्यूटर सिस्टम में इनपुट डिवाइस (input device) कहलाती है | 

उदाहरण : की -बोर्ड, माउस इत्यादि, स्कैनर, लाइट पेन, ऑप्टिकल मार्क रीडर (OMR), जॉयस्टिक |

सेन्ट्रल /कंट्रोल प्रोसेसिंग यूनिट (Central/Control Processing Unit)

कंप्यूटर के भीतर की मेन यूनिट जिसे सेन्ट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (CPU) कहते है | कंप्यूटर के भीतर होने वाली सारी घटनाओं के लिए यह यूनिट जिम्मेदार होती है | यह सभी आंतरिक (Internal) एवं बाह्य (External) डिवाइसिस को कंट्रोल करती है | यह अर्थमैटिक तथा लॉजिकल ऑपरेशन को प्रदर्शित करती है तथा इसका प्राईमरी स्टोरेज सेक्शन निर्देश तथा प्रोसेसिंग से संबंधित डाटा को संभालने का कार्य करती है |कंप्यूटर में होने वाले सभी प्रकार की गतिविधियों पर सी० पी० यू० का ही एक अहम रोल होता है यह सभी डिवाइसो को कंट्रोल करके रखता है तथा उन्हें इस्तेमाल करने के लिए तैयार करता है | सी० पी० यू० कंप्यूटर की समस्त प्रोसेसिंग को कंट्रोल करने का कार्य करता है इसलिए इसे कंप्यूटर का ह्रदय (Heart) कहते है |

सी० पी० यू० यूनिट को तीन भागो में बाँटा जा सकता है –

  1. कंट्रोल यूनिट
  2. अर्थमैटिक लॉजिकल यूनिट
  3. मैमोरी (प्राईमेरी मैमोरी)
  4. कंट्रोल यूनिट (Control Unit)
अर्थमैटिकल लॉजिकल यूनिट (ALU)

यह कंप्यूटर सिस्टम का ब्रेन भी कहलाता है | यह कंप्यूटर का एक महत्वपूर्ण भाग है | ए० एल० यू० का शाब्दिक अर्थ अर्थमैटिकल लॉजिकल यूनिट होता है | ए० एल० यू० सभी तरह की अंकगणितीय गणना एवं तार्किक टास्क को पूरा करती है जैसे – अभी अंको को जोड़ना (Addition), घटाना (Subtraction), गुणा (Multiplication), भाग (Division), आदि गणनाए ए० एल० यू० द्वारा ही किया जाता है तथा सभी प्रकार के लॉजिकल टास्क जैसे ऑन तथा ऑफ करना सही तथा गलत में पहचान बताना जैसे आदि प्रकार के लॉजिकल ऑपरेशन भी arithmetic logical unit (ALU) के द्वारा ही किये जाते है | 

मैमोरी (Memory)

मैमोरी कंप्यूटर सिस्टम का एक मुख्य भाग है | यह एक स्टोरेज एरिया है जहा पर डाटा तथा इनफार्मेशन प्रोसेस होने के बाद मेमोरी में स्टोर होता है तथा उसके बाद हमे उस डाटा प्रोग्राम का आउटपुट प्राप्त होता है | जब डाटा एवं निर्देश इनपुट डिवाइस द्वारा सी० पी० यू० को भेजे जाते है उससे पहले वह मैमोरी में स्टोर होता है उसके उपरांत ही कंप्यूटर उसे स्क्रीन में दर्शाता है | मैमोरी को दो भागो में बाटा गया है –

  1. प्राईमरी मैमोरी
  2. सेकण्डरी मैमोरी
कंट्रोल यूनिट (Control Unit)

कंट्रोल यूनिट सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट की एक महत्वपूर्ण इकाई है | कंट्रोल यूनिट ही यूजर द्वारा दिए गए निर्देशों को नियंत्रित करके एक जगह से दूसरे जगह तक पहुंचाने का कार्य करती है |

आउटपुट यूनिट  (Output unit)

इनपुट डिवाइस द्वारा दिए गए raw मेटीरियल जैसे डाटा को प्राइमरी स्टोरेज में भेजा जाता है यहाँ से यह डाटा फिर सी० पी० यू० के पास भेजा जाता है सी० पी० यू० में यह डाटा प्रोसेस होने के बाद पुनः इसे सेकेंडरी स्टोरेज में भेजा जाता है जो होती है एक सेकेंडरी यूनिट यही से यह डाटा हमे इनफार्मेशन अर्थात आउटपुट देने में हेल्प करता है | ये आउटपुट डाटा जैसे प्रिंटर जिससे हम प्रिंट निकलते है तथा मॉनिटर जहा हमे सारी इनफार्मेशन डिसप्ले होती है |